Home English Espanyol Nepali Franais Hindi Dutch Romanian Other sites Author   

हिन्दी मुख पृष्ठ

नई वाचा हमारे अनुभव में नई वाचा और पुरानी वाचा में क्या अंतर है ?
मलकिचेदेक की याजक पद मलिकिसिदक, लेवीय और अन्य याजक पद की तुलना।
मूसा और पुत्रत्व का मार्ग मूसा के जीवन से महत्वपूर्ण बातें सिखी जा सकती हें, जैसे मूसा और यीशु के जीवन में बहुत सारी समानताएँ हैं। पुत्रत्व के लिए बुलाए गए लागों को उसी मार्ग पर चलना पडेगा।
चार जीवित प्राणी ख्रीष्‍ट की शरीर (कलिसीया) के दर्शनों।
मैं हूं चौथे जीवित प्राणी।
पुनर्स्थापन का वर्ष धर्मशास्त्र मे जुबली वर्ष का अर्थ क्या है और हमारे लिये आज इसका महत्व क्या है?
बेबीलोन धर्मशास्त्र में उल्लिखीत बाबेल और बेबीलोन का अध्ययन। परमेश्वर के सच्चे मण्डली और मानव निर्मित शैतान प्रेरित नकली मण्डली के बीच की भिन्नता।
यहोवा के साक्षी और यीशु के साक्षी आरम्भिक विश्वासी यीशु के साक्षी थे या यहोवा के? साक्षी होनेका अर्थ क्या है?
परमेश्वर का नाम और यीशु का नाम परमेश्वर के नाम ‘यहोवा’ और ‘यीशु’ के नाम पर एक नयी दृष्टि।
चिह्न और आश्चर्य कर्म यिशु के इन शब्दों की व्याख्या कि उनके अनुयायी यीशु के द्वारा किये गये कामों से भी महान् काम करेंगे और झूठे चिह्नों के विषय में जानकारी एवम् उनसे अपने आपको सुरक्षित रखने के उपाय।
सामरी स्‍त्री बाइबल के कहानियों से हम लोग कुछ नयी शिक्षायें पाते हैं। परमेश्‍वर को स्‍वाभाविक रूप में पूजने और आत्‍मा में पूजने में आकाश और पृथ्‍वी का अन्‍तर हैं।
यीशु को समझन निकुदेमुस, फरिसी लोग, उनके माता पिता, उनके चेले, किसीने भी यीशु को नही समझा। क्या हम उन्हें अच्छी तरह समझ पाये हैं?
विश्वव्यापी मिलाप विश्वास नहीं करने वाले लोग सदा के लिए अग्निकुण्ड में रहेंगे या अन्त में उनका भी उद्धार किया जाएगा?
धर्मशास्त्र और परमेश्वर का वचन परमेश्वर के वचन का अर्थ बाइबल है कि और कुछ?
अच्छा चरवाहा बाइबल के समय के और वर्तमान के अच्छे और बुरे चरवाहा।
शाऊल और दाऊद इजराइल देश के इन दो राजाओं का परमेश्वर और मनुष्यों से किए गये व्यवहार से बहुत कुछ सिखा जा सकता है।
६६६ और ८८८ ६६६ के विषय में तो सबों ने सुना है लेकिन ८८८ का अर्थ क्या है? इन दोनों अंकों में छुपे हुए अर्थ बुझाने का एक प्रयास़।
प्रभु का आगमन क्या यह जल्द ही होने वाला है? इस विषय पर उल्लेखित बाइबल के विभिन्न पद फिर से देखते हैं।
इस्राएल के पर्व इस्राएल के पर्व और उनके आत्मिक अर्थ।
सच्च और झूठ
एक दूसरे के साथ इकट्ठा होना